बहुव्रीहि समास के भेद | Bahuvrihi Samas Ke Bhed

आज के इस आर्टिकल में बहुव्रीहि समास के भेद Bahuvrihi Samas Ke Bhed टॉपिक को आगे बढ़ाते हुए बहुव्रीहि समास की परिभाषा Bahuvrihi samas ki paribhasha और बहुव्रीहि समास के भेद Bahuvrihi Samas Ke Bhed के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे ।

बहुव्रीहि समास की परिभाषा Bahuvrihi samas ki paribhasha

जहां पहला पद और दूसरा पद मिलकर किसी तीसरी पद की ओर संकेत करते हैं वहां बहुव्रीहि समास होता है जैसे एक दंत अर्थात एक दांत वाला है जो गणेश यहां एक और दंत में से कोई पद प्रधान या गौण नहीं है बल्कि यह दोनों पद मिलकर तीसरे पर गणेश जी के लिए प्रयुक्त हो रहे हैं अतः बहुव्रीहि समास में पहला या दूसरा कोई भी पद प्रधान नहीं होता है।


बहुव्रीहि समास के भेद Bahuvrihi Samas Ke Bhed

बहुव्रीहि समास के चार भेद हैं

समानाधिकरण बहुव्रीहि समास

इसमें सभी पद प्रथमा अर्थात कर्ता कारक की विभक्ति के होते हैं परंतु समस्त पद के द्वारा जो उक्त होता है वह कर्म करण संप्रदान उपादान संबंध अधिकरण आदि विभक्ति रूपों में भी उक्त हो सकता है जिस आधार पर इसके निम्नलिखित भेद हैं

कर्ता बहुव्रीहि
जितेंद्र जीत ली है इंद्रिय जिसने

कर्म बहुव्रीहि समास
प्राप्तोदक – प्राप्त है उदक जिसको

करण बहुव्रीहि
कृतकार्य – किया गया है कार्य जिसके द्वारा

संप्रदान बहुव्रीहि
दत्तधन – दिया गया है धन जिसके लिए

अपादान बहुव्रीहि
निर्धन – निर्गत है धन जिसको

संबंध बहुव्रीहि
पीतांबर – पीला है वस्त्र जिसका

अधिकरण बहुव्रीहि
पतझड़ – पत्ते झड़ते हैं जिस मौसम में


व्याधि करण बहुव्रीहि

व्याधि कारण बहुव्रीहि में पहला पद प्रथम विभक्ति या कर्ता कारक रूप का होता है लेकिन बाद वाला पद संबंध या अधिकरण कारक का होता है
चक्रपाणि – चक्र रखा है जिसने पाणि में


तुल्य योग बहुव्रीहि / सम बहुव्रीहि

इस समास का पहला पद ‘सह’ होता है जो समास होने पर ‘स’ हो जाता है
सबल – जो बल के साथ है वह


व्यतिहार बहुव्रीहि

इस बहुव्रीहि में घात प्रतिघात या लड़ाई होना सूचित होता है
लाठा लाठी – लाठी से जो लड़ाई हुई


इसे भी पढ़े – बहुव्रीहि समास किसे कहते हैं

हमने आज के आर्टिकल में बहुव्रीहि समास के भेद Bahuvrihi Samas Ke Bhed के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की और साथ ही  बहुव्रीहि समास की परिभाषा Bahuvrihi samas ki paribhasha और बहुव्रीहि समास के भेद Bahuvrihi Samas Ke Bhed के बारे बहुत ही अच्छे ढंग से समझा | आपको यह जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं |

Leave a Reply